Thursday, 31 March 2011

|| पहेली मुलाक़ात ||

तुमसे मिलके न जाने क्यूँ दिल में एक कसक सी उठी है |
चंद ही घंटो में मानो गुज़री ज़िन्दगी फिर से जी है ||

सोहम 'जांबाज़'
बड़ोदा
२८ फरवरी २०११

|| अधूरी आस ||

आज फिर तेरे शहर से हम तनहा हो के निकले |
मिलने की आस को दिल-ही-दिल में दबा के निकले ||

बड़ी आस थी के उनसे मुलाक़ात होती |
इसही बहाने बातें उनसे दो-चार होती |
मिलने की आस को दिल-ही-दिल में दबा के निकले ||
आज फिर तेरे शहर से हम तनहा हो के निकले ||

पहेले पता जो होता के उनसे मुलाक़ात न होती |
तो पूरी न होने वाली आस ही न की होती |
न मिलने के ग़म को दिल-ही-दिल में दबा के निकले ||
आज फिर तेरे शहर से हम तनहा हो के निकले ||

सोहम 'जांबाज़'
अबू धाबी - न्यू योर्क (हवाई उड़ान)
२१ मार्च २०११

|| एक अधूरी मुलाक़ात ||

दिन गुज़र चूका
रात ढल चुकी |
एक और मुलाक़ात
पूरी न हो सकी ||

कोशिश तो बहोत की के वो हमें हमराज़ बना लेते |
पर सारी कोशिशों के बाद भी वो रूबरू न हो सकी ||
एक और मुलाक़ात पूरी न हो सकी ||

कमोशी के परदे तले छुपी है उनकी रूह |
सारी मशक्कत के बाद भी वो बेपर्दा न हो सकी ||
एक और मुलाक़ात पूरी न हो सकी ||

सोहम 'जांबाज़'
पुणे
14 मार्च २०११

|| मुलाक़ात ||

उनसे जब पूछा मैंने के अब मिलोगे कब |
खामोश ही रहे वो तो कोई क्या समझे अब ?

पहेलियाँ बुझाना तो आता नहीं हमें या रब |
पर ये उन्हें कोई कैसे समझाए अब ?

शर्मीली हैं वो और नादान से हम हैं तब |
ऐसे में हम-उनको वो-हमें समाज पाएंगे कब ?

सोहम 'जांबाज़'
मांडवी - कच्छ
१० मार्च २०११