Saturday, 16 February 2008

Pyaar Ka Izhaar Kaise Karen...

पेशे खिदमत है .....

इरशाद ....

इज़हार--महोब्बत कैसे करूं, वो मेरे बस की बात नहीं |

इन्कार--महोब्बत जो हो गई, तो जीने की कोई आस नहीं ||


जब से देखा है वो चहेरा, वक़्त है जैसे थम सा गया !

उसे देखा करूं हर शाम सहर, उसके सीवा अब कोई काम नहीं ||


जब याद उसकी जाती है, बेबाक से हो जाते हैं हम |

ढूँढते रहेते हैं खुदको हरदम, अब उसके सीवा कोई पहेचान नहीं ||


कभी-कभी ज़हेन में आता है ख़याल, के कहेदु जाकर दिल की बात |

पर जाने क्यूँ रुक जाता हूँ, वरना 'ना' वो कहें ऐसे तो हालात नहीं ||


क्या होगा इस मसले का हल, कौन करेगा पहेली पहेल |

इसही उलझन में उलझा रहेता हूँ, वरना हल हो एसा ये सवाल नहीं ||


आखिर ही गई क़यामत की रात, और हो ही गया इजहार--गज़ब |

आखों ही आखों में गुफ्तगू हो गई, अब लब्जों का कोई इस्तेमाल नहीं ||


ये पूछो क्या मंज़र था क्या समां था क्या आरजू थी 'जांबाज़' |

कुछ कहे पाएंगे क्योंकि, अल्फजों में बयां हो सके एसा ये अहेसास नहीं ||


सोहम 'जांबाज़'- १२ - फरवरी - २००८

- लंदन -

5 comments:

Chaitanya said...

Duniya me, jine ke liye inteha aur bhi hai...
Mohobbat se badhkar, jindgi me kuch kam aur bhi hai ...

Chaitanya said...

Aisa Andaz-e-Bayaan dekh, pathar bhi ho jayega RAZI...
Aur Aap to "JaanBaz" hai, aapke liye jit hi hai har "BAZI" .. :-)

sandeep said...

Jab Nahi Aaye The Tum, Tab Bhi To Tum Aaye The,
Aakh Mein Nur Ki Aur Dil Mein Lahu Ki Surat,
Yaad Ki Tarha Dhadakte Hue Dil Ki Surat,

Tum Nahi Aaye Abhi, Phi Bhi To Tum Aaye Ho,
Raat Ke Sine Mein Mahatab Ke Khanjar Ki Tarha,
Subho Ke Haath Me Khursheed Ke Sagar Ki Tarha,

Tum Nahi Ayoge Jab, Phir Bhi To Tum Aayoge,
Julf Dar Julf Bhikhar Jayega Phir Raat Ka Rang,
Shabe Tanhai Mein Hi Lufte Mulakat Ka Rang,

Aayo Aane Ki Kare Baten, Ke Tum Aaye Ho,
Ab Tum Aye Ho To Main Kaun Si Sheh Nazar Karu,
Ke Mere Paas Siva Mehro Wafa Kuch Bhi Nahi,
Ek Dil Ek Tamanna Ke Siva Kuch Bhi Nahi.

One of The Jagjit's Master Piece..

Dilip said...

words are self explanatory and have good depths. selection of words are commendable and point of message is straight. Keep it up. More you write up better expression will be reflectives

Alok said...

Class hai yaar... thoda aur frequently likho