Tuesday, 22 April 2008

मेरा खुदा तो छुपा है तुझमें ही कहीं

तुजमें और मुझमें हैं फासले कई ,
हौंसले है बुलंद और इरादे सही
देखते हैं क़यामत पे खुदा का फरमान
मेरा खुदा तो छुपा है तुझमें ही कहीं


stanza's to be added soon

No comments: